ट्रेडर्स के लिए शुरुआती गाइड

Share market क्या होता है

Share market क्या होता है
आईपीओ में निवेश करते समय पर्याप्त सावधानी बरतें, क्योंकि कई बार ऐसे निवेश में आपके अनुमान से ज्यादा जोखिम हो सकता है.

Share Market में करना चाहते हैं निवेश की शुरुआत, जानिए शेयर बाजार की ABCD

Share Market में अगर आप निवेश करने की प्लानिंग बना रहे हैं तो पैसा डुबे इससे पहले थोड़ी जानकारी उसके बारे में ले लें, ताकि आपको बेसिक जानकारी हो सकें और आपका ज्यादा रिटर्न अपने शेयर पर ले सकें।

Vikash Tiwary

Edited By: Vikash Tiwary @ivikashtiwary
Updated on: November 05, 2022 19:07 IST

Share Market में निवेश की शुरुआत करने से पहले ये जानें- India TV Hindi News

Photo:INDIA TV Share Market में निवेश की शुरुआत करने से पहले ये जानें

What is Share Market: शेयर मार्केट में निवेश करना जोखिमों से भरा होता है। अगर आप नए हैं, आपने इससे पहले कभी किसी स्टॉक (Stock) में निवेश नहीं किया है और आपको इस बात की जानकारी नहीं है कि शेयर मार्केट क्या होता है और यह कैसे काम करता है? क्या स्टॉक मार्केट में सिर्फ शेयर ही खरीदे-बेचे जाते हैं? तो आज हम आपके इन सभी सवालों का जवाब इस खबर में देने जा रहे हैं।

शेयर मार्केट क्या है?

शेयर मार्केट एक ऐसा बाजार है, जहां खरीदार BSE(Bombay Stock Exchange) और NSE(National Stock Exchange) पर सूचीबद्ध शेयरों की खरीद-बिक्री करते हैं। यह सेबी(Securities and Exchange Board of India) के देखरेख में काम करता है। सेबी भारत सरकार की संस्था है जो शेयर बाजार में लिस्टेड कंपनियों पर नजर रखती है ताकि वह ग्राहक के साथ फ्रॉड ना कर सके। इसे दो भाग में क्लासिफाइड किया गया है। प्राइमरी और सेकेंडरी।

क्या है प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट?

जब कोई कंपनी शेयरों के माध्यम से धन जुटाने के लिए पहली बार स्टॉक एक्सचेंज में खुद को रजिस्टर करती है तो उसे प्राइमरी कैटेगरी में रखा जाता है, वहीं एक बार जब कंपनी की नई सिक्योरिटी को प्राइमरी मार्केट में बेच दिया जाता है, तब उसका कारोबार सेकेंडरी में किया जाने लगता है। यहां निवेशकों को बाजार की मौजूदा कीमतों पर शेयर खरीदने और बेचने का मौका मिलता है।

शेयर के आलावा इनमें भी कर सकते हैं निवेश

स्टॉक एक्सचेंज में इन चार रूप (शेयर, बांड, म्यूचुअल फंड और Derivatives) में ट्रेडिंग होती है, जिसमें सबसे पहला स्थान शेयर का होता है। अगर आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं तो आप उस कंपनी के उतने फीसदी के हिस्सेदार हो जाते हैं। कंपनी के नफा-नुकसान का असर सीधे आपके उपर पड़ता है।

बांड लंबी अवधि के लिए खरीदे जाते हैं। जब एक कंपनी को पर्याप्त पूंजी की आवश्यकता होती है। पूंजी जुटाने का एक तरीका जनता को बांड जारी करना होता है। ये बांड कंपनी द्वारा लिए गए "ऋण" का प्रतिनिधित्व करते हैं। बांडधारक कंपनी के लेनदार बन जाते हैं और कूपन के रूप में समय पर ब्याज भुगतान प्राप्त करते हैं।

म्यूचुअल फंड कौन ऑपरेट करता है?

म्यूचुअल फंड एक ऐसा फंड है, जो AMC यानी एसेट मैनेजमेंट कंपनीज ऑपरेट करती है। इन कंपनियों में कई लोग अपने पैसे निवेश करते हैं। म्यूचुअल फंड द्वारा इन पैसों को बॉन्ड, शेयर मार्केट समेत कई जगहों पर निवेश किया जाता है। वहीं अगर बात डेरीवेटिव फंड की की जाए तो यह एक वित्तीय अनुबंध है जो एक या अधिक अंतर्निहित परिसंपत्तियों से इसके मूल्य को प्राप्त करता है।

Share Market क्या है | What is Share Market in Hindi

दोस्तों आज हम बात करने वाले शेयर मार्किट के बारे में और आपको इस लेख पर बताएंगे कि शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट क्या होता है जी है लोग यही बोलते है आम बोल चाल की भाषा में तो आज में भी यही समझता हूँ आप सब को सीधे और सरल शब्दों में Share Market Kya Hota Hai इसके बारे बताएंगे

शेयर मार्किट | What is Share Market in Hindi

What is Share Market in Hindi

Share Market in Hindi जिसे आप सब यूँ समझ सकते है इसके दो मूल आधार है

  1. Bombay Stock Exchange (BSE)
  2. National Stock Exchange (NSE)
  • BSE – इसमें इंडिया के टॉप 30 कम्पनी लिस्टेड होती है और इन्ही कम्पनिया की रफ़्तार को सेंसेक्स के द्वारा सूचित किया जाता है कितना ऊपर गया या कितना नीचे
  • NSE – इसमें इंडिया के टॉप 50 कम्पनिया को लिस्टेड किया जाता है Neety 50 बोला जाता है इसी Share market क्या होता है के द्वारा दर्शाया जाता है

स्टॉक मार्किट (Stock Market) – यहां पर BSE या NSE इन दोनों जगहों पर विभीन्न प्रकार की कम्पनिया के शेयर खरीद या बेच सकते है

डीमैट अकाउंट ( जानिए Demat Account Kya Hai ) – आपको शेयर बाजार में खरीद या बिक्री करने हेतु या शेयर बाज़ार में व्यापार करने हेतु सबसे पहले आपको डीमैट खुलवाना होता है जहाँ पर KYC करनी बहुत जरुरी होती है इसके बिना आपका अकाउंट नहीं खुल सकता आप अपना डीमैट अकाउंट किसी भी online broker जैसे Zerodha, Angel Broking, Upstox, Groww, 5 Paise इत्यादि पर खुला सकते है इसके अलावा कमर्शियल बैंक जैसे – HDFC, AXIS आदि बैंक से खुलवा सकते है

Share Market पर लोगो की आम धारणा

भारत में Share Market में निवेश करने आम जनता आज भी कतराती हुई नज़र आती है बहुत से लोग आज भी इसे जुआ सट्टा आदि ही समझते है जबकि भारत से हटके अमेरिका और पच्छिम देशो में देश का हर दूसरा व्यक्ति शेयर मार्किट में Trade करता हुआ नज़र आता है जबकि भारत में आज भी 4 से 5 % लोग ही स्टॉक मार्किट से पैसा कमाना जानते है या फिर वो ट्रेड करते है

Share Market में शुरुआत कब करे

Share Market in Hindi : स्टॉक मार्किट में विभिन्न प्रकार कम्पनी के शेयर ख़रीदे और बेचे है यहां पर बहुत से लोग पैसे कमाते है और आमिर से और आमिर बनते जाता है और बहुत से लोग शुरआत करते ही पैसे गवा देते है और वो हताश होकर बैठ जाता है स्टॉक मार्किट में पैसे कमाने के लिए आपको इसमें अपनी नॉलेज का काफी अच्छे तरीके से बढ़ाना होगा इसके बाद ही इसकी शुरुआत करे आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होना चाहिए ताकि आपको अगर नुकसान होता है तो आप उसको सह सके आप कोई जॉब या बिज़नेस करते हो तो तभी इसमें पार्ट टाइम हाथ आजमाए तभी Share Market में शुरुआत करे

स्टॉक खरीदते समय हमेशा कुछ बातो का ध्यान रखे

  1. जिस कम्पनी का शेयर ख़रीदे उसका Past Record जरूर चेक कर ले maximum 10 साल का
  2. कम्पनी की आर्थिक स्थिति का आंकलन कर ले
  3. कंपनी का Loan आदि तो नहीं है है ये जांच कर ले
  4. कंपनी का मुनाफा कितना है ये जरूर देख ले
  5. कंपनी का Future प्लान क्या है पता कर लो ये भी
  6. और नॉलेज को हमेशा बढ़ाते रहो इन सब बातो का ध्यान रखोगे तो धोखा नहीं खाओगे

Long Term के लिए जाएं तो क्या करे

Share Market in Hindi चाहे स्टॉक मार्किट या म्यूच्यूअल फण्ड या बैंक या insurance policy सब में लॉन्ग टर्म में ही फायदा होता है यह बात गाँठ बांध ले स्टॉक मार्किट में अनुभवी लोगो ने हमेशा कहाँ है ट्रेड वो करते है जिन्हें अच्छे नॉलेज है शेयर खरीदने व बेचने में इसलिए यदि आप लॉन्ग टर्म के जाए तो पहले अपनी नॉलेज को बढ़ाएं फिर किसी शेयर में इन्वेस्ट करें और investor हमेशा लम्बे समय के लिए बने रहते है और मोटा मुनाफा कमाते है

मार्किट का व्यवहार

मार्किट हमेशा एक जैसे रूप नहीं रहता बल्कि हमेशा बदलता रहता है जो इस बात पर नज़र रखते है उन्हें इस बात का पता होता है बड़े इन्वेस्टर को यह हमेशा पता होता है यह कभी भी थोडा बहुत ऊपर बढ़ता है जो कभी नीचे रहता है पर हमेशा long term में देखा जाए तो ग्रोथ ऊपर की और होता है

डेवर्सिफिएड रखे अपने इन्वेस्ट को

एक समझदार investor वह होता जो अपना सारा पैसा एक जगह ना लगाकर बल्कि अलग-अलग कम्पनिया के स्टॉक खरीदता रहता है ताकि उसे अगर कुछ कम्पनिया से नुकसान हो भी जाए तो बाकि कम्पनिया से उसे लाभ मिल सके इस प्रकार वह किसी बड़े नुकसान से बच जाएगा समुचित लाभ उठा पायेगा और लम्बे समय में अपने लक्ष्य को भी हासिल के लेगा

मुझे उम्मीद है आप सबको मेरे What is Share Market in Hindi लेख पर द्वारा दी गयी जानकारी पसन्द आई होगी इससे जुडी और जानकारी हेतु कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते है धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

शेयर बाजार का क्या मतलब है?

शेयर मार्किट एक ऐसा बाजार होता है जहाँ पर विभीन्न प्रकार की कंपनियों के शेयर ख़रीदे और बेचे जाते हैं ये बिलकुल दूसरे सामान्य बाजार की तरह ही होता है जहाँ पर लोग शेयर की खरीद बिक्री का काम करते हैं.

क्या शेयर मार्किट जुआ है

जी नहीं। शेयर मार्किट जुआ नहीं होता है। यह एक सोची समझी मार्केट होती है जिसके दो मूल आधार BSE और NSE एक्सचेंज चलती है लेकिन हां यदि आप शेयर मार्केट के बारे में कुछ Share market क्या होता है Share market क्या होता है भी नहीं पता तो आपका इसमें ज्यादा घाटा भी हो सकता है

किसी शेयर को कैसे खरीदे

किसी शेयर के खरीदने और बेचने का एक ही तरीका होता है जो कि स्टॉक एक्सचेंज में उपयोग किया जाता है शेयर मार्केट में पैसा को इन्वेस्ट करने के लिए आपके पास एक डीमैट अकाउंट होना अनिवार्य हैं बिना demat account के आप न तो शेयर खरीद सकते और न ही शेयर कि बेच सकते।

IPO में निवेश करने जा रहे हैं? तो इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान, वरना उठाना पड़ सकता है नुकसान

इस बात पर ध्यान जरूर दिया जाना चाहिए कि कंपनी द्वारा जुटाए गए फंड का इस्तेमाल कहां किया जाना है. अगर कंपनी कर्ज के बोझ से दबी है तो निवेशकों को इसमें निवेश करने में ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए.

IPO में निवेश करने जा रहे हैं? तो इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान, वरना उठाना पड़ सकता है नुकसान

आईपीओ में निवेश करते समय पर्याप्त सावधानी बरतें, क्योंकि कई बार ऐसे निवेश में आपके अनुमान से ज्यादा जोखिम हो सकता है.

IPO: भारतीय शेयर बाजार में हाल के दिनों में इनिशियल पब्लिक ऑफर (IPO) की बाढ़ आई हुई है. स्टॉक इंडेक्स अपने अब तक के उच्चतम स्तर पर कारोबार कर रहे हैं. बाजार की इस तेजी का फायदा उठाने के लिए अभी और ज्यादा आईपीओ के आने की उम्मीद है. निवेशक भी इन आईपीओ के ज़रिए पैसा कमाने के लिए बिल्कुल तैयार हैं, हालांकि नए निवेशकों को इन आईपीओ में निवेश करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है. नए निवेशकों के लिए यह जरूरी है कि वे आईपीओ में निवेश करते समय पर्याप्त सावधानी बरतें, क्योंकि कई बार ऐसे निवेश में आपके अनुमान से ज्यादा जोखिम हो सकता है.

क्या है IPO

इनिशियल पब्लिक ऑफर बाजार से पूंजी जुटाने के लिए किसी प्राइवेट कंपनी द्वारा लाया जाता है. यह एक प्राइवेट कंपनी को पब्लिक कंपनी में बदलने की प्रक्रिया है. जब कंपनियों को पैसे की जरूरत होती है तो ये शेयर बाजार में खुद को लिस्ट कराती हैं. आईपीओ के ज़रिए प्राप्त पूंजी को कंपनी अपनी जरूरत के हिसाब से खर्च करती है. इस फंड का इस्तेमाल कर्ज चुकाने या कंपनी की तरक्की आदि में किया जा सकता है. स्टॉक एक्सचेंजों पर शेयरों की लिस्टिंग से कंपनी को अपने मूल्य का उचित वैल्यूएशन प्राप्त करने में मदद मिलती है.

यह ध्यान रखना अहम है कि सभी आईपीओ को उनके मन मुताबिक सफलता नहीं मिलती है. अतीत में ऐसे कई आईपीओ रहे हैं जो सफल नहीं हो सके जबकि कई अन्य ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया और निवेशकों की संपत्ति में इजाफा किया. इसलिए, निवेशकों को किसी भी आईपीओ में निवेश करने से पहले इसके बारे में अच्छी तरह समझ लेना जरूरी है. आईपीओ में पैसा लगाते समय निवेशकों के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है, जिसके बारे में हमने यहां बताया है.

Best Schemes: 5 साल में 3 गुना मिल सकता है रिटर्न, इन 4 स्‍कीम ने किया है कमाल, क्‍या आप लगाएंगे पैसा

Mutual Funds SIP: एसआईपी में पहली बार करने जा रहे हैं निवेश? बेहतर रिटर्न के लिए इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान

DRHP को ध्यान से पढ़ें

किसी कंपनी के ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस या DRHP के ज़रिए उस कंपनी को समझा जा सकता है. इस दस्तावेज को बाजार नियामक सेबी के सामने प्रस्तुत किया जाता है, जिसमें कंपनी से संबंधित अहम जानकारियां होती हैं. इसमें कंपनी के बिजनेस, पास्ट परफॉरमेंस, संपत्ति और देनदारियां, आईपीओ के ज़रिए प्राप्त फंड के इस्तेमाल से संबंधित डिटेल और संभावित रिस्क फैक्टर्स जो कंपनी के प्रदर्शन को प्रभावित कर सकते हैं, आदि जानकारियां होती हैं. निवेश करने का निर्णय लेने से पहले आपको इसे अच्छी तरह से पढ़ लेना चाहिए. DRHP कई अहम जानकारी प्रदान करता है, Share market क्या होता है जिसकी मदद से आप कंपनी के व्यवसाय को बेहतर ढंग से समझने और इस आधार पर निवेश का निर्णय ले सकते हैं.

जुटाई गई पूंजी का उद्देश्य

इस बात पर ध्यान जरूर दिया जाना चाहिए कि कंपनी द्वारा जुटाए गए फंड का इस्तेमाल कहां किया जाना है. अगर कंपनी कर्ज के बोझ से दबी है और डीआरएचपी में उल्लेख करती है कि आय का इस्तेमाल मौजूदा कर्ज का भुगतान करने के लिए किया जाएगा, तो निवेशकों को इसमें निवेश करने में ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए. हालांकि, अगर फंड का इस्तेमाल कर्ज चुकाने के साथ-साथ कंपनी की तरक्की के मिश्रित उद्देश्य के लिए किया जाना है, तो निवेश करने पर विचार किया जा सकता है. अगर कंपनी पहले ही अच्छा परफॉर्म कर रही है और आईपीओ से प्राप्त फंड का इस्तेमाल कंपनी की तरक्की के लिए करना चाहती है तो ऐसे में इसमें निवेश करना फायदे का सौदा साबित हो सकता है.

प्रमोटरों को जानें

जो लोग कंपनी को चला रहे हैं, उन पर नजर रखनी चाहिए. इसमें फर्म के प्रमोटर और प्रबंधन के अन्य प्रमुख अधिकारी शामिल हैं. कंपनी ग्रोथ करेगी या नहीं, यह काफी हद तक इस बात पर निर्भर करता है कि उसके प्रमोटर और प्रमुख अधिकारी कौन हैं. कंपनी के सभी तरह के व्यावसायिक निर्णय इन्हीं के द्वारा लिए जाते हैं. एक निवेशक को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि प्रमुख प्रबंधन अधिकारियों ने कंपनी के साथ कितने साल बिताए हैं.

कंपनी के कारोबार और इसके विस्तार के बारे में जानें

कंपनी जिस सेक्टर से संबंधित है, उसमें कंपनी की स्थिति, उसकी बाजार हिस्सेदारी, उसके उत्पादों की पहुंच, भौगोलिक प्रसार, विस्तार योजनाएं, अनुमानित लाभ, सप्लाई चैन, संकट से निपटने की क्षमता जैसे फैक्टर्स पर ध्यान देना जरूरी है. इन सभी जीचों के आधार पर यह अनुमान लगाया जा सकता है कि कंपनी भविष्य में ग्रोथ करेगी या नहीं.

रिस्क फैक्टर्स के बारे में जानें

कंपनी अपने DRHP में रिस्क फैक्टर्स के बारे में बताती है. एक निवेशक को Share market क्या होता है इसे ध्यान से पढ़ना चाहिए. ये ऐसी चीजें हैं जिन पर निर्भर करता है कि इस आईपीओ में निवेश से फायदा होगा या नुकसान. कानूनी मुकदमों, पॉलिसी से संबंधित परिवर्तनों और ब्याज दरों समेत कई तरह के रिस्क फैक्टर्स हो सकते हैं. यह कंपनी की भविष्य की विकास संभावनाओं को प्रभावित कर सकते हैं.

किसी भी अन्य निवेश की तरह, निवेश करने से पहले अपनी जोखिम लेने की क्षमता का आकलन करना जरूरी है. आपको अपनी जोखिम उठाने की क्षमता के अनुसार निवेश करना चाहिए. अगर बिजनेस बाजार सहभागियों की सलाह के अनुसार बहुत जोखिम भरा दिखता है और आपकी जोखिम लेने की क्षमता से मेल नहीं खाता है, तो आईपीओ में निवेश से बचना बेहतर है.

(Article: Adhil Shetty)

(इस आर्टिकल को BankBazaar.com के CEO ने लिखा है.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

शेयर बाजार के फायदे Share Market Benefits Hindi

What Is Share Market In Hindi (शेयर मार्केट क्या है ?) Share market के बारे में तो अपने जरूर सुना होगा कुछ लोगो को तो इसके बारे में अच्छी तरह पता है लेकिन यदि आपको Share market बारे में नहीं पता है तो आज हम आपको Share market hindi में बतायेंगे और बतायेंगे की आप कैसे share market में निवेश करके अच्छे पैसे कमा सकते है इसके फायदे क्या है और इसके नुकसान क्या क्या है ?

Share Market Benefits Hindi

क्योकि आज बहुत से लोग share market से पैसे कमा कर करोड़पति बन चुके है और बहुत लोग share market के अन्दर ट्रेडिंग करना चाहते है लेकिन इसके बारे में जानकारी नही है और share market के फायदे नुकसान के बारे में नही पता है तो वह share market से पैसे नही कमा सकते है इसलिए आज हम Share Market Benefits Hindi के बारे में विस्तार से बतायेंगे | share market ke fayde

शेयर का क्या अर्थ है ?

What is Share Hindi :- Share का अर्थ एक हिस्सा होता है | जब आप किसी कंपनी निवेश करते हैं, तो आप उस कंपनी के आंशिक हिस्सेदार बन जाते हैं |Share किसी कंपनी में आंशिक भागीदारी प्राप्त करने का एक तरीका हैं | जब आप किसी कंपनी का शेयर खरीदते हो, तब आप उस कंपनी के शेयर होल्डर या ‘इक्विटी होल्डर’ बन जाते हो | शेयर को इक्विटी और स्क्रिप्ट भी कहा जाता है |

जैसे – एक ABC कंपनी की कुल पूंजी 1 करोड़ है, और कंपनी अपनी 1 करोड़ की पूंजी को, 1 लाख अलग-अलग, बराबर मूल्य के हिस्से में बाँट देती है, अब बांटा गया हर एक हिस्सा, कंपनी की पूंजी का एक सबसे छोटा भाग है जिसकी कीमत अब 100 रूपये है, पूंजी के इसी छोटे भाग को ही SHARE कहा जाता है,

इस तरह ABC कंपनी की पूंजी SHARE में बाँट दिए जाने पर अब कंपनी की पूंजी SHARE CAPITAL कहलाएगी, जो इस प्रकार से होगी –

TOTAL NO of SHARE X SHARE PRICE = SHARE CAPITAL

1,00,000 (एक लाख SHARE) X 100 (एक शेयर) = 1,00,00,000 (1 करोड़ कुल शेयर कैपिटल)

शेयर मार्किट क्या है ? What is Share market in Hindi?

Share Market kya hai? Share market या stock market एक Share market क्या होता है ऐसा मार्किट जंहा कंपनी के शेयर की Selling aur Purchasing की जाती है यानि जिस मार्किट के अन्दर कंपनीज के शेयर को खरीदा और बेचा जाता है उसे Share market या stock market कहते है शेयर मार्किट के अंदर बहुत सी कंपनी अपने शेयर Issue करती Share market क्या होता है है और बहुत से इंवेस्टवेर उन्हें खरीदते है और फिर उन्हें बेचते है और इस प्रक्रिया को Stock Market ट्रेडिंग कहते है share market in hindi basic knowledge

और यह एक बहुत से लोग बहुत सारा पैसा कमाते है और बहुत से लोग बहुत सारा पैसा डूबा भी देते हैकंपनी के शेयर की कीमत कभी घटती ही तो कभी बढती रहती है इसलिए Share market in hindi बहुत जोखिम वाली मार्किट है क्योकि यदि कोई किसी कंपनी के के शेयर खरीदता है तो उस इन्वेस्टर की उस कंपनी के लाभ और हानि Share market क्या होता है के अन्दर हिसेदारी हो जाती है तो कंपनी अच्छी परफॉरमेंस के साथ काम कर रही है तो शेयर का रेट कम नही होगा और इन्वेस्टर को लाभ होगा और कंपनी की परफॉरमेंस अच्छी नही है तो इन्वेस्टर के शेयर रेट कम हो जायेगा और उसके पैसे डूब जायेंगे | share market ke fayde

शेयर बाजार के फायदे – Share Market Benefits hindi

उच्च लिक्विडिटी (High Liquidity) :- इंडियन शेयर मार्किट में, दो एक्सचेंज, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) हैं ज्यादातर कंपनियां या तो इन इन दोनों एक्सचेंजों पर या इनमें से किसी एक में अपने शेयरों का बिज़नेस करती हैं। यह निवेशकों को उच्च लिक्विडिटी प्रदान करता है क्योंकि औसत दैनिक मात्रा अधिक होती है। इसलिए, यदि कोई इन्वेस्टर स्टॉक एक्सचेंजों पर किसी भी शेयर को खरीदना या बेचना चाहता है, तो लिक्विडिटी इसे Share market क्या होता है आसान बनाती है।

कम समय अवधि में उच्च रिटर्न (High returns) :- Bonds और Fixed Deposits जैसे अन्य इन्वेस्टमेंट ऑप्शन से तुलना की जाये तो शेयर मार्किट निवेशकों को तुलनात्मक रूप से कम समय अवधि में अधिक रिटर्नदेता है लेकिन शेयर मार्किट रूल को फॉलो करना पड़ेगा जैसे : ट्रेडिंग की योजना बनाना, स्टॉप–लॉस और ले–प्रॉफिट ट्रिगर्स का उपयोग करना, अनुसंधान और उचित परिश्रम करना, और धैर्यवान होने से स्टॉक निवेश में निहित risk को काफी कम किया जा सकता है और शेयर बाजार निवेश पर रिटर्न को बढाया जा सकता है |

No Money Investment Limit :- शेयर मार्किट एक ऐसा इन्वेस्टमेंट आप्शन है जिसके अन्दर अगर आपके पास ₹1000 भी है, तो भी आप इन्वेस्टमेंट शुरू कर सकते हैं और अगर वह 1000 करोड़ पर करोड़ है तब भी आप शुरू कर सकते हैं, यहां पर इन्वेस्टमेंट Share market क्या होता है करने के लिए कम से कम या अधिक से अधिक पैसों की कोई सीमा नहीं है |

पैसे से पैसा कमाना :- शेयर मार्किट एक ऐसी जंहा आपको किसी तरह का कोई भी प्रोडक्ट खरीदना या बेचना नहीं होता हैइ आप सिर्फ अपने पैसों से स्टॉक्स खरीदते हैं और STOCKS बेचकर बेचकर पैसे प्राप्त करते हैं |

Share Market Benefits hindi

लाभ और हानि की कोई सीमा नहीं :- शेयर मार्किट के अन्दर प्रॉफिट और loss की कोई लिमिट नही है इसके अन्दर इन्वेस्टर के उपर निर्भर करता है की कितने अच्छे से ट्रेडिंग कर सकता है और अच्छे पैसे कमा सकता है |

No Time और Space Limit :- शेयर मार्किट एक सप्ताह के अन्दर 5 दिन और हर दिन 6 घंटे चलता है ओ आप अपनी मर्जी के हिसाब से ट्रेडिंग कर सकते है और इसके लिए ज्यादा स्पेस की जरुरत नही पड़ती है और जंहा अच्छा इन्टरनेट मिले वंहा से ट्रेडिंग कर सकते है |

Regulatory Environment and Framework :- इंडियन स्टॉक मार्किट को स्टॉक एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) द्वारा कण्ट्रोल किया जाता है SEBI के पास स्टॉक एक्सचेंजों को विनियमित करने, इसके विकास और इन्वेस्टर के अधिकारों की रक्षा करने की जिम्मेदारी है। इसका मतलब यह है कि जब इन्वेस्टर शेयर बाजार में वित्तीय प्रोडक्ट में निवेश करते हैं तो उसके साथ कोई धोखाधड़ी नही हो सकती है

Facility (सुविधा) :- स्टॉक मार्किट के अन्दर इन्वेस्टर को बहुत सी सुविधा दी जाती है जैसे कोई भी इन्वेस्टर इलेक्ट्रॉनिक रूप से शेयर को ट्रान्सफर कर सकता है और ट्रेडिंग कर सकता है इसके अलावा, ब्रोकिंग सेवा प्रदाता ऑनलाइन शेयर कारोबार सुविधाएं प्रदान करते हैं जो निवेश को सुविधाजनक बनाते हैं, क्योंकि निवेशक अपने घरों या कार्यालयों के आराम से कंप्यूटर के माध्यम से अपने आर्डर स्थापित कर सकते हैं |

यदि आपको ये Share market in Hindi in India 2020 की जानकारी पसंद आई या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये

Share Market क्या है | What is Share Market in Hindi

दोस्तों आज हम बात करने वाले शेयर मार्किट के बारे में और आपको इस लेख पर बताएंगे कि शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट क्या होता है जी है लोग यही बोलते है आम बोल चाल की भाषा में तो आज में भी यही समझता हूँ आप सब को सीधे और सरल शब्दों में Share Market Kya Hota Hai इसके बारे बताएंगे

शेयर मार्किट | What is Share Market in Hindi

What is Share Market in Hindi

Share Market in Hindi जिसे आप सब यूँ समझ सकते है इसके दो मूल आधार है

  1. Bombay Stock Exchange (BSE)
  2. National Stock Exchange (NSE)
  • BSE – इसमें इंडिया के टॉप 30 कम्पनी लिस्टेड होती है और इन्ही कम्पनिया की रफ़्तार को सेंसेक्स के द्वारा सूचित किया जाता है कितना ऊपर गया या कितना नीचे
  • NSE – इसमें इंडिया के टॉप 50 कम्पनिया को लिस्टेड किया जाता है Neety 50 बोला जाता है इसी के द्वारा दर्शाया जाता है

स्टॉक मार्किट (Stock Market) – यहां पर BSE या NSE इन दोनों जगहों पर विभीन्न प्रकार की कम्पनिया के शेयर खरीद या बेच सकते है

डीमैट अकाउंट ( जानिए Demat Account Kya Hai ) – आपको शेयर बाजार में खरीद या बिक्री करने हेतु या शेयर बाज़ार में व्यापार करने हेतु सबसे पहले आपको डीमैट खुलवाना होता है जहाँ पर KYC करनी बहुत जरुरी होती है इसके बिना आपका अकाउंट नहीं खुल सकता आप अपना डीमैट अकाउंट किसी भी online broker जैसे Zerodha, Angel Broking, Upstox, Groww, 5 Paise इत्यादि पर खुला सकते है इसके अलावा कमर्शियल बैंक जैसे – HDFC, AXIS आदि बैंक से खुलवा सकते है

Share Market पर लोगो की आम धारणा

भारत में Share Market में निवेश करने आम जनता आज भी कतराती हुई नज़र आती है बहुत से लोग आज भी इसे जुआ सट्टा आदि ही समझते है जबकि भारत से हटके अमेरिका और पच्छिम देशो में देश का हर दूसरा व्यक्ति शेयर मार्किट में Trade करता हुआ नज़र आता है जबकि भारत में आज भी 4 से 5 % लोग ही स्टॉक मार्किट से पैसा कमाना जानते है या फिर वो ट्रेड करते है

Share Market में शुरुआत कब करे

Share Market in Hindi : स्टॉक मार्किट में विभिन्न प्रकार कम्पनी के शेयर ख़रीदे और बेचे है यहां पर बहुत से लोग पैसे कमाते है और आमिर से और आमिर बनते जाता है और बहुत से लोग शुरआत करते ही पैसे गवा देते है और वो हताश होकर बैठ जाता है स्टॉक मार्किट में पैसे कमाने के लिए Share market क्या होता है आपको इसमें अपनी नॉलेज का काफी अच्छे तरीके से बढ़ाना होगा इसके बाद ही इसकी शुरुआत करे आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होना चाहिए ताकि आपको अगर नुकसान होता है तो आप उसको सह सके आप कोई जॉब या बिज़नेस करते हो तो तभी इसमें पार्ट टाइम हाथ आजमाए तभी Share Market में शुरुआत करे

स्टॉक खरीदते समय हमेशा कुछ बातो का ध्यान रखे

  1. जिस कम्पनी का शेयर ख़रीदे उसका Past Record जरूर चेक कर ले maximum 10 साल का
  2. कम्पनी की आर्थिक स्थिति का आंकलन कर ले
  3. कंपनी का Loan आदि तो नहीं है है ये जांच कर ले
  4. कंपनी का मुनाफा कितना है ये जरूर देख ले
  5. कंपनी का Future प्लान क्या है पता कर लो ये भी
  6. और नॉलेज को हमेशा बढ़ाते रहो इन सब बातो का ध्यान रखोगे तो धोखा नहीं खाओगे

Long Term के लिए जाएं तो क्या करे

Share Market in Hindi चाहे स्टॉक मार्किट या म्यूच्यूअल फण्ड या बैंक या insurance policy सब में लॉन्ग टर्म में ही फायदा होता है यह बात गाँठ बांध ले स्टॉक मार्किट में अनुभवी लोगो ने हमेशा कहाँ है ट्रेड वो करते है जिन्हें अच्छे नॉलेज है शेयर खरीदने व बेचने में इसलिए यदि आप लॉन्ग टर्म के जाए तो पहले अपनी नॉलेज को बढ़ाएं फिर किसी शेयर में इन्वेस्ट करें और investor हमेशा लम्बे समय के लिए बने रहते है और मोटा मुनाफा कमाते है

मार्किट का व्यवहार

मार्किट हमेशा एक जैसे रूप नहीं रहता बल्कि हमेशा बदलता रहता है जो इस बात पर नज़र रखते है उन्हें इस बात का पता होता है बड़े इन्वेस्टर को यह हमेशा पता होता है यह कभी भी थोडा बहुत ऊपर बढ़ता है जो कभी नीचे रहता है पर हमेशा long term में देखा जाए तो ग्रोथ ऊपर की और होता है

डेवर्सिफिएड रखे अपने इन्वेस्ट को

एक समझदार investor वह होता जो अपना सारा पैसा एक जगह ना लगाकर बल्कि अलग-अलग कम्पनिया के स्टॉक खरीदता रहता है ताकि उसे अगर कुछ कम्पनिया से नुकसान हो भी जाए तो बाकि कम्पनिया से उसे लाभ मिल सके इस प्रकार वह किसी बड़े नुकसान से बच जाएगा समुचित लाभ उठा पायेगा और लम्बे समय में अपने लक्ष्य को भी हासिल के लेगा

मुझे उम्मीद है आप सबको मेरे What is Share Market in Hindi लेख पर द्वारा दी गयी जानकारी पसन्द आई होगी इससे जुडी और जानकारी हेतु कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते है धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

शेयर बाजार का क्या मतलब है?

शेयर मार्किट एक ऐसा बाजार होता है जहाँ पर विभीन्न प्रकार की कंपनियों के शेयर ख़रीदे और बेचे जाते हैं ये बिलकुल दूसरे सामान्य बाजार की तरह ही होता है जहाँ पर लोग शेयर की खरीद बिक्री का काम करते हैं.

क्या शेयर मार्किट जुआ है

जी नहीं। शेयर मार्किट जुआ नहीं होता है। यह एक सोची समझी मार्केट होती है जिसके दो मूल आधार BSE और NSE एक्सचेंज चलती है लेकिन हां यदि आप शेयर मार्केट के बारे में कुछ भी नहीं पता तो आपका इसमें ज्यादा घाटा भी हो सकता है

किसी शेयर को कैसे खरीदे

किसी शेयर के खरीदने और बेचने का एक ही तरीका होता है जो कि स्टॉक एक्सचेंज में उपयोग किया जाता है शेयर मार्केट में पैसा को इन्वेस्ट करने के लिए आपके पास एक डीमैट अकाउंट होना अनिवार्य हैं बिना demat account के आप न तो शेयर खरीद सकते और न ही शेयर कि बेच सकते।

रेटिंग: 4.45
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 740
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *